क्या दुनिया अफगानिस्तान में तालिबान की सरकार को मान्यता देगी

 20 साल से तालिबानियों के द्वारा अफगानिस्तान की जनता का शोषण

पिछले 20 साल से तालिबानियों के द्वारा अफगानिस्तान की जनता का शोषण हो रहा है वहा के लोगों के मानव अधिकारों का हनन हो रहा है तालिबानियों के द्वारा वहां की महिलाओं को बेदर्दी से पीटा जाता है पत्रकारों को पीटा जाता है वहां पत्रकारों के पीछे तालिबानी सैनिक खड़े होते हैं पत्रकारों पर तालिबानियों का बहुत बड़ा दबाव है वहां की आवाम की आवाज बाहर तक नहीं जा पा रही है 

दुनिया चुप क्यों है क्या तालिबान बहुत बड़ा आतंकवादी संगठन है

 दुनिया चुप क्यों है क्या तालिबान बहुत बड़ा आतंकवादी संगठन है क्या दुनिया तालेबान से नहीं लड़ सकती क्या ऐसे ही आतंकवादी संगठन हर देश पर कब्जा करके सरकार बनाते रहेंगे हर देश को आगे आकर जवाब देना होगा बोलना होगा पड़ोसी देशों को बोलना होगा अगर पड़ोसी के घर में आग लगती है और उसके घर में लगी आग की लपट दूसरे घर में भी जाति है Ghar matlab Desh

सवाल यह है कि तालिबानी संगठन बना कैसे को ट्रेनिंग कहां से दी गई उनको हथियार किसने दिए उनको रहने के लिए शर्ट जगह किसने दी उनको छिपने के लिए जगह किसने दी उन आतंकियों पर करोड़ों रुपए के इनाम पकड़ने के लिए लगा रखे हैं पर उनको छिपाने के लिए जगह किसने दी कौन इसके पीछे आतंकवादी संगठनों की मदद कर रहा है कौन इसके पीछे उन आतंकवादी संगठन को पैसा दे रहा है कौन इसके पीछे आतंकवादी संगठन को हथियार दे रहा है हमें समझना होगा हमें जानना होगा
आतंकवादी संगठन तालेबान ने अफगानिस्तान पर कब्जा करके कार्यकारी सरकार बनाई है और उस को मान्यता देने के लिए कुछ देश तैयार हैं कुछ देशों ने तो मान्यता दे दी है कुछ देशों ने तो उनको पैसा भी देने की मंजूरी दे दी है और कुछ देश तो कार्यकारी सरकार बनने से बहुत खुश हैं
हे दुनिया के वासियों आप सोचो क्या यह सही है जिस देश के अंदर मानवता के अधिकारों का हनन हो रहा हो जिस देश के अंदर महिलाओं को पीटा जा रहा हो पत्रकारों को पीटा जा रहा हो वहां के बच्चों का शोषण किया जा रहा है उस देश पर एक ऐसा संगठन कब्जा करके सरकार बनाता है सोचो दुनिया वालों सोचो

 दुनिया के देश UNO मे क्यों सामिल हुऐ

 UNO के छह अंग क्यों बने ।  General assembly Bani antrashtriy security council Bani antrashtriy social and economic council Bani antrashtriy court banaa,,ye sab किसके लिए चुप रहने के लिए आतंकवादी संगठन को बढ़ावा देने के लिए
क्यों संयुक्त राष्ट्र संघ की एजेंसियां बनी वर्ल्ड बैंक बना आईएमएफ बना यूनेस्को बना डब्ल्यूटीओ बना डब्ल्यूएचओ बना किसके लिए केवल पैसा देने के लिए और उस पैसे का दुरुपयोग हो रहा हो तो चुप रहने के लिए पैसा आतंकवादी संगठन में जा रहा हो तो चुप रहने के लिए
अरे संयुक्त राष्ट्र संघ में देश इसीलिए शामिल हुए थे ताकि उन गरीब देशों का भी आर्थिक विकास हो उन देशों की उन्नति हो उन देशों में रह रहे लोगों का मानव अधिकार  मिले उनका शोषण ना हो वहां की एजुकेशन व्यवस्था अच्छी हो और उस देश की मदद हो पैसे से बल से पर पैसा तो बहुत लोन के द्वारा दे दिया पर बल कुछ भी नहीं

ग्लोबलाइजेशन के जमाने में सारे देश हर एक देश से एक नेटवर्क की तरह जुड़े हुए हैं

ग्लोबलाइजेशन के जमाने में सारे देश हर एक देश से एक नेटवर्क की तरह जुड़े हुए हैं अगर उसमें से किसी एक देश में कुछ गलत होता है नेटवर्क पर असर पड़ता है तो पूरे देशों की इकोनामी पर असर पड़ता है पूर्व देशों की स्थिति पर असर पड़ता है कुछ देश बहुत गंदी कूटनीति करके , वहा की जमीन तलाश रहे होते है अपने फायदा के लिए ऐसे संगठनों की मदद करते हैं पर यह सब कुछ समय के लिए ही होता है

भारत ने अफगानिस्तान के अंदर बहुत सारा पैसा लगा रखा है वहां का विकास को बढ़ाने के लिए वहां बहुत पैसा लगा रखा है वहां सड़कों पर पैसा लगा रखा है dam पर पैसा लगा रखा है हालांकि अफगानिस्तान और भारत के साथ यह द्विपक्षीय समझौता है और कुछ त्रिपक्षीय समझौता है  अब आतंकवादी संगठन तालिबान ने कार्यकारी सरकार अफगानिस्तान में बना ली है तो भारत का क्या रुख है कूटनीति में फंसा है पैसा फसा है समझौता है पर चुप क्यों है


क्या अमेरिका तालिबान को माफ करेगा


क्या अमेरिका तालिबान को माफ करेगा या  उसको मान्यता दिलवाएगा  या क्या कुछ बड़े एशियन देशों का ही रुख अपनाएगा दुनिया वालों सोचो क्या हो सकता है
ज्यादा नुकसान अमेरिका का हुआ है सबसे ज्यादा बेज्जती अमेरिका की हुई है सबसे ज्यादा सैनिक अमेरिका के मारे गए हैं विदेशी सेनाओं के अंदर सबसे ज्यादा परेशान अमेरिका ही है क्या ऐसी बेइज्जती से अमेरिका की दुनिया में गुडविल पर असर पड़ेगा अमेरिका की दुनिया में बढ़ती हुई इकॉनमी पर असर पड़ेगा क्या अमेरिका सुपरपावर बना रहेगा कुछ कहा जा नहीं सकता आप ही सोचो जो देश खुद हत्यार तालेबान को देता हो जो देश उस संगठन को आगे बढ़ाता हो और वही संगठन उस देश के सैनिक को बाहर खड़े कर देते हो बाहर भगा के और उस देश पर कब्जा करते हो क्या कूटनीति है अमेरिका की अभी कोई समझ नहीं पा रहा है


अफगानिस्तान कई देशों के कूटनीति के जाल में फसा

अफगानिस्तान पूरी तरह से कई देशों की कूटनीति के जाल में फंस चुका है सब देश अपना अपना फायदा देख रहे हैं अभी क्या हो सकता है आप ही देखिए क्या यूएनओ कुछ करेगा मान्यता देगा या नहीं आवाम वहां पर तालिबानी संगठन की सरकार को मान्यता देगी भविष्य में या नहीं अरे दुनिया वालों मेरे प्यारे दुनिया के वासियों अफगानिस्तान पर देशों की कूटनीति को देखते रहिए मेरा लिखा हुआ लेख पढ़ते रहिए बहुत-बहुत धन्यवाद पिछले साल


Comments

Popular posts from this blog

KNOW ABOUT UNITED NATIONS ORGANIZATION (U N O) AND ITS ORGANS

What is the UNESCO and its functions?

What is the biggest irony in life? by a very good story.

Wikipedia

Search results