Posts

Showing posts from September, 2021

भारत के नागरिकों के मौलिक अधिकार

Image
भाग 3 मौलिक अधिकार अनुच्छेद(12 से 35)  समानता का अधिकार  स्वतंत्रता का अधिकार (विचारों की अभिव्यक्ति)  शोषण से रक्षा का अधिकार   धर्म की स्वतंत्रता का अधिकार  संस्कृति और शिक्षा संबंधी अधिकार   संवैधानिक उपचारों का अधिकार ऐतिहासिक विकास सन 1858 ई. में विक्टोरिया घोषणा पत्र में ब्रिटिश द्वारा घोषित भारतीय नागरिकों को भारत में मूल अधिकार लागू करने का प्रस्ताव पास हुआ। उसके बाद प्रथम अधिकारिक मांग सन 1925 ई. में कॉमनवेल्थ ऑफ इंडिया बिल में एनी बेसेंट ने मूल अधिकारों की मांग रखी थी । सन 1928  ई.  में नेहरू रिपोर्ट यानी कि मोतीलाल नेहरू की रिपोर्ट में 19 मूल अधिकारों का वर्णन किया गया था जिनमें से 10 मूल अधिकारों को भारतीय संविधान में शामिल कर लिया गया।  सन 1931 ईस्वी में कराची अधिवेशन जिसकी अध्यक्षता सरदार वल्लभभाई पटेल ने की थी इसमें कांग्रेस के घोषणा पत्र में मूल अधिकारों की मांग की मूल अधिकारों का प्रारूप जवाहरलाल नेहरू ने तैयार किया था। मौलिक अधिकार हमारे संविधान के भाग 3 में मूल अधिकार के नाम से जाने जाते हैं और अनुच्छेद 12 से लेकर अनुच्छेद 35 हमारे संविध

क्या दुनिया अफगानिस्तान में तालिबान की सरकार को मान्यता देगी

Image
 20 साल से तालिबानियों के द्वारा अफगानिस्तान की जनता का शोषण पिछले 20 साल से तालिबानियों के द्वारा अफगानिस्तान की जनता का शोषण हो रहा है वहा के लोगों के मानव अधिकारों का हनन हो रहा है तालिबानियों के द्वारा वहां की महिलाओं को बेदर्दी से पीटा जाता है पत्रकारों को पीटा जाता है वहां पत्रकारों के पीछे तालिबानी सैनिक खड़े होते हैं पत्रकारों पर तालिबानियों का बहुत बड़ा दबाव है वहां की आवाम की आवाज बाहर तक नहीं जा पा रही है  दुनिया चुप क्यों है क्या तालिबान बहुत बड़ा आतंकवादी संगठन है  दुनिया चुप क्यों है क्या तालिबान बहुत बड़ा आतंकवादी संगठन है क्या दुनिया तालेबान से नहीं लड़ सकती क्या ऐसे ही आतंकवादी संगठन हर देश पर कब्जा करके सरकार बनाते रहेंगे हर देश को आगे आकर जवाब देना होगा बोलना होगा पड़ोसी देशों को बोलना होगा अगर पड़ोसी के घर में आग लगती है और उसके घर में लगी आग की लपट दूसरे घर में भी जाति है Ghar matlab Desh सवाल यह है कि तालिबानी संगठन बना कैसे को ट्रेनिंग कहां से दी गई उनको हथियार किसने दिए उनको रहने के लिए शर्ट जगह किसने दी उनको छिपने के लिए जगह

रामबाण औषधि गाजर आयुर्वेद में काफी प्रशंसा की गई है

Image
गाजर सर्दियों में बहुतायत से आने वाला फल है इसे पोस्टिक से भरपूर जड़ कहा जाता है गाजर की आयुर्वेद में प्रशंसा की गई है आयुर्वेद के अनुसार, गाजर शरीर के दूषित रक्त को साफ करती है अनावश्यक गर्मी को शांत करती है पाचन तंत्र अधिक सक्रियता से कार्य करता है पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन और बहुत सारे पोस्टिक तत्व पाए जाते है इसमें पर्याप्त मात्रा में प्रोटीन लोह तत्व विटामिन ए विटामिन डी खनिज लवण और कैल्शियम जैसे तत्व पाए जाते हैं। गाजर आंखों की रोशनी के लिए रामबाण औषधि गाजर में विटामिन ए की भरपूर उपस्थिति नेत्र रोगों को दूर करती है गाजर के सेवन से आंखों की रोशनी बढ़ती है जो लोग नियमित रूप से गाजर खाते हैं उन्हें कभी भी रतौंधी रोग का सामना नहीं करना पड़ता इसके साथ साथ रक्त कणों में वृद्धि रक्त शुद्धि तथा शरीर की रोग प्रतिरोधक शक्ति को बनाए रखती है क्योंकि इसमें लोह तत्व का महत्वपूर्ण योगदान रहता है गाजर के अंदर आयरन व फास्फोरस tatva पाया जाता है।    गाजर का सेवन से अस्थियों और दांतों को मजबूती देना गाजर के सेवन से अस्थियों और दांतो को मजबूती मिलती है इसमें कार

सरकार चाहिए या सरकारी नौकरी आप ही सोचो

Image
आज हमारे भारत देश के अंदर नोजवानों की ऐसी स्थिति हो गई है हम कह नहीं सकते की बेरोजगारी इतनी बढ़ गई है कि कुछ कहा जा नहीं सकता भारत की जनसंख्या में युवा का होना बहुत अच्छी बात है युवा में हुनर होना बहुत अच्छी बात है युवा में स्किल्स होना बहुत अच्छी बात है और युवा को एजुकेशन लेने के लिए जो मेहनत करनी पड़ती है वह भी बहुत अच्छी बात है युवा को सरकारी नौकरी चाहिए और क्या करें पढ़ाई करने के बाद अगर उसको ऐसा इंफ्रास्ट्रक्चर नहीं मिलेगा ऐसा प्लेटफार्म नहीं मिलेगा ऐसा संगठन नहीं मिलेगा ऐसी सोच नहीं मिलेगी जो कि अच्छा इंफ्रास्ट्रक्चर बना सके अच्छा संगठन बना सके और एक देश के युवा को नौकरी दे सके   देश का युवा क्या करेगा सरकारी नौकरी के लिए फॉर्म अप्लाई करेगा जिसकी फीस होगी 400 ₹500 और लाखों युवाओं सरकारी नौकरी के लिए अप्लाई करेंगे सरकार की आमदनी बढ़ेगी और सरकार की आमदनी बढ़ेगी तो भैया नेताजी मजे लेंगे कुर्ता चमकदार पहनेंगे कार मर्सिडीज लेंगे और कोठी उनकी ऐसी होगी महल जैसी बढ़िया से बढ़िया पहरेदार होंगे  यह सब देखेंगे तो क्या करेंगे तो राजनीति में जाए

परमात्मा के द्वारा एक पहली कोशिश मानव को बदलने की

Image
 2 साल पहले हम जैसा जीवन जी रहे थे। वो अच्छा था काफी अच्छा था। फिर एक ऐसी महामारी आई जिसने दुनिया की सूरत बदल दी, दुनिया के तौर तरीके बदल दिए,  दुनिया की तहजीब बदल दी और दुनिया के अभिवादन करने के तरीके बदल दिए।   ये सब किसने किया आप सब लोग जानते ही होंगे और सब जानते हैं, यह सब किया, एक कोरोना वायरस ने, जिसका नाम कोविड-19 है।  इस संसार के अंदर हर देश हर प्राणी जो ह्यूमन है, आगे बढ़ना चाहता है जैसे की घोड़ों की रेस हो रही हो उस रेस में सब को भाग लेना है और सब आगे निकलना चाहते हैं सब एक दूसरे से आगे निकलना चाहते हैं आगे निकलना चाहते हैं और तो और निकलने के जो नियम है उस नियम का पालन किए बगैर किसी को दबाकर किसी को लात मारकर किसी को उठापटक कर आगे बढ़ना चाहते हैं। संसार में क्या हो रहा है यही तो हो रहा है हर देश एक दूसरे को नीचा दिखा रहा है हर देश एक दूसरे देश पर बहुत सारे लगाम लगा रहे हैं भाईचारा को खत्म कर रहे हैं आतंकवाद इतना उपज रहा है की मानो कि हम इस दुनिया के है ही नहीं एक आतंकवाद को बढ़ावा दे रहा है और एक उस को खत्म करने की कोशिश कर रहा है। ऐक दूसरे देश को हथिय

Wikipedia

Search results